हिमालय भारत के कितने राज्यों में फैला है ? | हिमालय पर्वत कहा है ? Himalay Parvat

Himalay Parvat : आपको इस पोस्ट में हिमालय भारत के कितने राज्यों में फैला है ? यह जानने को मिलेगा हिमालय से सम्बंधित सभी प्रमुख जानकारियाँ दी गयी है। तथा यह भी बताएँगे वास्तव में हिमालय पर्वत कहा है ? एवं हिमालय से निकलने वाली नदियाँ कौन – कौन सी है ? हिमालय के प्रमुख चोटियों तथा तालाबों के नाम , हिमालय न्यूनतम तापमान तथा अधिकतम तापमान कितना होता है ? हिमालय से सम्बंधित सभी प्रमुख जानकारियाँ जो परीक्षाओं में अधिकतर पूछे जाते है।

हिमालय भारत के कितने राज्यों में फैला है | हिमालय पर्वत कहा है। History Of Himalay Parvat

 Himalay कुल 11 राज्यों से सटा हुआ है , जम्मू कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड,  सिक्किम, अरुणाचल प्रदेश, त्रिपुरा, मणिपुर, मिजोरम, मेघालय,  नागालैंड, असम से सटा हुआ है 

हिमालय पर्वत की चौड़ाई कितनी है तथा लम्बाई कितनी है ?

हिमालय की लंबाई 2400 किलोमीटर और चौड़ाई 200 किलोमीटर है। क्या आपको पता है की भारत का क्षेत्रफल कितना है ? यदि नहीं तो अवश्य जाने परीक्षाओं में अक्सर पूछा जाता है।

हिमालय को कितनी श्रेणियों में बांटा गया है ?

यह पर्वत श्रृंखला तीन समांतर श्रेणी ओं में बची हुई है। 

  1. ट्रांस हिमालय
  2. मध्य हिमालय
  3. शिवालिक

 हिमालय पर्वत की ऊंचाई कितनी है ? | हिमालय पर्वत किस देश में है ?

Himalay Parvat 7 देशों के साथ सटा हुआ है , पाकिस्तान, अफगानिस्तान, भारत, नेपाल,और म्यांमार। नेपाल और चीन की सीमा उस परिस्थिति हिमालय सबसे ज्यादा ऊंचाई 8,848  मीटर है ,  Himalay के सबसे दक्षिणी भाग को शिवालिक कहते है। यदि आप एक छात्र है तो 10 भारत के सबसे अच्छे कॉलेज इसे भी पढ़े।

himalay Parvat हिमालय भारत के कितने राज्यों में फैला है ?
हिमालय भारत के कितने राज्यों में फैला है ?

हिमालय का निर्माण | Formation Of Himalayan Mountains

 70 मिलियन साल पहले यहां पर विशाल महासागर बड़ी-बड़ी लहरें उठ रही थी, और ठीक उसी समय धरती सतह की भारतीय प्लेट हर साल 15 सेंटीमीटर की रफ्तार से उत्तर दिशा में यूरेशियन प्लेट की तरफ बढ़ रही थी, इसका नतीजा यह था, अगले 20 मिलियन साल पहले सागर में प्लेट का उत्तरीय यूरेशियन प्लेट से जा टकराय  घर और टेथिस सागर पूरी तरह विलुप्त हो गया , दोनों प्लेट के टकराने से हिमालय का जन्म हुआ। 

 आज पूरी दुनिया की कुछ सबसे ऊंची पर्वत चोटी हिमालय में पाई जाती है, सागरमाथा और भी बहुत सारे। दुनिया का सबसे ऊंचा पर्वत शिखर है या यूं कहें समुद्र तल से सबसे ऊंची चोटी, हिमालय की चोटियों से और ग्लेशियर से पिघलने वाली बर्फ भारतीय उपमहाद्वीप की कई जीवन दायिनी नदियों को जीवन देती हैं। 

इस ऐतिहासिक नदियों ने कई सभ्यताओं को धूल से उठकर शिखर पर पहुंचाने और मिट्टी में मिल जाने को बड़े नजदीक से देखा है, विश्व की सबसे पुरानी सभ्यता में गिनी जाने वाली सिंधु घाटी सभ्यता Himalay में निकलने वाले सिंधु घाटी सभ्यता से विकसित हुई थी यह प्राचीन सिंधु नदी पहाड़ों के बीच से रास्ता बनाते हुए आज के दिन भी पाकिस्तान में जिंदा है। 

हिन्दुओं की आस्था

और अनगिनत लोगों को जीने का सहारा दे रही है, हिमालय की कोई भी कहानी गंगा के बिना पूरी हो ही नहीं सकती है, करोड़ों हिंदुओं का आस्था का प्रतीक यह नदी अपने आप में महाकाव्य है, यह नदी अपनी उद्गम स्थल से लेकर बंगाल की खाड़ी में हर कदम पर सभ्यता और संस्कृति की एक नई जय गाथा लिखती जाती है, अपने साथ यमुना और ब्रह्मपुत्र जैसी नदियों का पानी लेकर जब यह बंगाल की खाड़ी में गिरती है , तो वहां दुनिया का सबसे बड़ा नदी डेल्टा भी बनाती है। 

और सुंदरवन के नाम से जाना जाता है। Himalay Parvat की मन मोह लेने वाली चोटियों के बीच कई कांच की तरह साफ नीले रंग की झीले देखने को मिलती हैं करोड़ों हिंदुओं और अन्य धर्मों का आस्था से जुड़े मानसरोवर झील भी यही स्थित समुद्र से 5000 मीटर ऊंचाई पर मानसरोवर झील तिब्बत के जिस एरिया में स्थित है वहां अधिकतर खारे पानी की झील ही पाई जाती है।

ऐसे में मीठे पानी का मानसरोवर झील का यहां होना बेहद आश्चर्य पैदा करता है। Himalay Parvat के गोद में प्रकृति अपने सबसे सुंदर विद्यमान है और देखने वाले के दिल में हमेशा के लिए जगह बना लेती है। यदि आप पढाई करते है अथवा की परीक्षा की तयारी कर रहे है तो इस UP Static GK in Hindi तथा भारत के प्रमुख दिवस को भी पढ़े क्योकि इसमें बहुत अच्छे सवालों को दिया गया जो अधिकतर पूछे जाते है।

 हिमालय से निकली नदियों के बारे में – 

भारत की नदियां भारतीय लोगों के जीवन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है  नदी प्रणाली देशभर में बड़ी संख्या में लोगों के लिए सिंचाई , पीने योग्य पानी, सस्ता परिवहन बिजली और आजीविका प्रदान करती भारत की जल निकासी प्रणालियों रूप से व्यापक राहत सुविधाओं द्वारा नियंत्रित किया जाता है। 

हिमालय की प्रमुख चोटियों और दर्रों के नाम

हिमालय पर्वत के लाभ

हिमालय पर्वत किस दिशा में है

हिमालय भारत के किस भाग में स्थित है

महान हिमालय में पाई जाने वाली बीमारियों तथा दलों के नाम

हिमालय के प्रमुख तालाब | Himalay Ke Pramukh Talab

 हिमालय से निकलने वाली नदियाँ

भारत की नदियां भारतीय लोगों के जीवन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है नदी प्रणाली देशभर में बड़ी संख्या में लोगों के लिए सिंचाई , पीने योग्य पानी, सस्ता परिवहन बिजली और आजीविका प्रदान करती भारत की जल निकासी प्रणालियों रूप से व्यापक राहत सुविधाओं द्वारा नियंत्रित किया जाता है। 

 भारतीय नदियों को दो प्रमुख समूहों में विभाजित किया जाता है। 

1. हिमालय की नदियां – Himalay की नदियां बारहमासी है इसका मतलब है कि उनके पास साल भर पानी रहता है। यह नदियों बारिश के साथ-साथ बुलंद पहाड़ों से पिघली बर्फ से पानी प्राप्त करती हैं। 

2. प्रायद्वीपीय नदिया –  यह केवल मानसून में ही जल प्राप्त करती हैं और शेष वर्षा के दौरान ज्यादातर प्राप्त होती हैं। 

 हिमालय की नदियां – Himalay Parvat KI Nadiya

1. सिंधु नदी –  

 उद्गम –  बोकारो ग्लेशियर मानसरोवर झील के( तिब्बत) लंबाई 2880 किलोमीटर( भारत में 709 किलोमीटर ,  तिब्बत में इसे शेर का सिंह कहा जाता है। 

  • यह लद्दाख के माध्यम से भारत में प्रवेश करता है और केवल जम्मू और कश्मीर में बहती है। 
  • यह नंगा पर्वत से हेयर पिन बंद के माध्यम से पाकिस्तान में प्रवेश करते हैं। 
  • यह अरब सागर में गिरती है –  1960 के भारत और पाक जलसंधि द्वारा भारत अपने पानी का 20  प्रतिशत उपयोग करता है। 

 सिंधु की सहायक नदी – 

1. व्यास नदी –  व्यास का प्राचीन नाम बिपाशा है। 

उत्पत्ति – रोहतांग दर्रा हिमाचल के पास व्यास कुंड –  लंबाई 615 किलोमीटर

  • यह सतलज नदी की सहायक नदी है यह पूरी तरह से भारत में बहती है। 
  • यह मनाली और कुल्लू से होकर हिमांचल प्रदेश में चलती है और कुल्लू घाटी बनाती है। 
  • यह हरिका के पास सतलज नदी में मिलती है। 

2. चिनाब नदी –

चिनाब का प्राचीन नाम अक्षनी / इस्किमती है ।

उत्पत्ति – चन्दा और भगा ( हिमाचल ) नदी के संगम से बारालाचा दर्रा 

चंद्रा नदी – इस नदी का पानी बारा लाचा पास से उत्तर की ओर बहता है। तथा जिस नदी का पानी उत्तर की बहता है उसे भगा नदी कहते है।

  • बारा लाचा पास से उत्तर की ओर बहता पानी ।
  • इसे हिमाचल प्रदेश चंद्रभागा के रूप में भी जाना जाता है ।
  • यह सिन्धु नदी की सबसे बड़ी सहायक नदी है। यह पीर पंजाल के समानांतर चलती है और यह अखनूर के पास पंजाब के मैदानों में प्रवेश करती है और बाद में झेलम से जुड़ जाती है
  • यह पाकिस्तान में रावी और सतलज नदी से जुड़ती है ।
  •  प्रसिद्ध परियोजनाएँ – दुहस्ती , बागलीहार और सलाल जलविद्युत परियोजना ।

3. रावी नदी  –

  • रावी  नदी का प्राचीन नाम  परुषणी  है ।

 उत्पति – रोहतांग दर्रा ( हिमाचल ) के पास कुल्लू की पहाड़ियों

 धोलाधर रेंज से होकर डलहौजी के पास दक्षिण पश्चिम की ओर मुडती है , और फिर माधोपुर के पास पंजाब के मैदान में प्रवेश करती है। यह पाकिस्तान में चिनाब नदी से मिलती है। यह सिन्धु नदी की सबसे छोटी सहायक नदी है।

4. झेलम नदी – 

उत्पत्ति –  झेलम का प्राचीन नाम वितस्ता है,यह कश्मीर के दक्षिण – पूर्वी हिस्से में वेरीनाग के झरने में उत्पन्न होता है 

  •  यह चिनाब की एक सहायक नदी है और केवल कश्मीर ( बुलर झील ) में बहती है ।
  • मुजफ्फराबाद ( पीओके ) तक पहुंचने के लिए यह पीर – पंजाल रेंज में कण्ठ से कटता है ।

5. सतलज नदी –

सतलज  का प्राचीन नाम शतरू  है ।

 उत्तप्ति – मानसरोवर के पास राकस झील, तिब्बत लेबाई -1500 km.

 शिपकी ला पास में हिमाचल को प्रवेश करती है, यह रावी , चिनाब , झेलम और व्यास से पानी इकट्ठा करती है और सिंधु से मिथलाकोट (पाकिस्तान) में मिलती है। 

6. श्योक नदी –

  • यह सिंधु नदी की एक सहायक नदी है ।
  • उत्पत्ति -इसकी उत्पत्ति रिमो ग्लेशियर से हुई है ।
  • इसे मृत्यु की नदी के रूप में जाना जाता है भारत में लद्दाख से होकर बहती है ।

7 . गंगा –

  • गंगा नदी प्रणाली भारत की सबसे बड़ी नदी प्रणाली है।
  • लंबाई -2510 km.

 उत्पत्ति – उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले में गौमुख ( 3.900 * मीटर के पास गंगोत्री ग्लेशियर से भागीरथी नदी के रूप में देवप्रयाग में , भागीरथी का अलकनंदा में बिलय हो जाता है । और यहीं से इसे गंगा के नाम से जाना जाता है 

पंचप्रयाग –  

  1. विष्णुप्रयाग – जहाँ अलकनंदा नदी धौली गंगा नदी से मिलती है।

2. नंदप्रयाग – अलकनंदा नदी मंदाकिनी नदी से मिलतीहै।

 3. कर्णप्रयाग – अलकनंदा नदी पिंडर नदी से मिलती है।

 4. रुद्रप्रयाग – अलकनंदा नदी मंदाकिनी नदी से मिलती है।

 5. देवप्रयाग – अलकनंदा नदी भागीरथी नदी से मिलती है।

नोट –

  • धौली और विष्णु गंगा , पिंडर , मंदाकिनी / काली गंगा अलकनंदा नदी की सहायक नदियाँ हैं ।
  • अलकनंदा नदी बद्रीनाथ से ऊपर मतोपंथ ग्लेशियर से निकलती है ।
  •  जबकि गोमती , घाघरा , गंडक , कोसी कुछ वामपंथी सहायक नदियाँ हैं ।

गंगा नदी की सहायक नदी –

  1. यमुना नदी – 
  • यह  गंगा की दाहिनी – सहायक नदी है ।

उत्पत्ति – यमुनोत्री ग्लेशियर (  उत्तराखंड )  पाओटा साहिब में गंगा के मैदान में प्रवेश करती है । यह आगरा तक दक्षिण की ओर बहती है और इलाहाबाद में गंगा के साथ विलय होने तक दक्षिण – पूर्व में चलती है । दाहिने साइड  की सहायक नदियाँ- टोंस, चंचल, सिंध, बेतवा, केन नदी । बाये साइड की सहायक नदियाँ- हिंडन,शारदा,वरुण , गिरि। 

2. चंबल  –

उत्पत्ति – चंबल नदी मध्य प्रदेश में विध्य श्रेणी में महू के पास एक जगह से निकलती है । नदिया, काली सिंध, पार्वती चंबल अपनी बदहाल स्थलाकृति के लिए प्रसिद्ध है, जिसे चंबल के बीहड़ों के साप से  जाना जाता ह  मध्य प्रदेश और राजस्थान के माध्यम से बहती है ।

3. रामगंगा  –

  • यह गंगा की एक बाई किनारे की सहायक नदी है ।

उत्पत्ति – यह उत्तराखंड में नैनीताल  के पास Himalay की कामून श्रेणी से उत्पन होती है ।

 उत्तर प्रदेश के कन्नौज के पास गंगा के मैदानों में प्रवेश करती है ।

4. गोमती  –

उत्पत्ति – यह गंगा की एक बाई किनारे की सहायक नदी है । यह उत्तर प्रदेश के पीलीभीत जिले में गोमट टाल से निकलती है  -,यह लखनऊ और जौनपुर शहरों से बहने से पहले उत्तर प्रदेश के गाजीपुर में गंगा में मिलती है ।

5. घाघरा  –

उत्पत्ति -यह गंगा की एक बाई किनारे की सहायक नदी  यह तिब्बत क्षेत्र के मापचा चुंग ग्लेशियर से निकलती है,नदी को नेपाल में कर्णाली के नाम से जाना जाता है ।, यह छपरा , बिहार में गंगा में मिलती है ।,सहायक नदियाँ – सारदा नदी

6. सरयू – 

उत्पत्ति -यह नेपाल में ग्रेट हिमालय में मिलम ग्लेशियर से निकलती है ।  यह बारामदेओ में Himalay छोड़ने से पहले भारत नेपाल  सीमा के साथ बहती है । नदी को अलग – अलग नामों से जाना जाता है,काली सारदा, बीरी,चौका यह बहरामघाट में घाघरा नदी में मिलती है ।

7. गंडक 

 यह गंगा की एक बाई किनारे की सहायक नदी है ।

उत्पत्ति – नेपाल Himalay धौलागिरि और माउंट एवरेस्ट के बीच – गंडक उतपन्न होती है |

  • मुख्य  धाराएं- कालीगंडक और त्रिशूलगंगा ।
  • गंडक बिहार के पटना के पास सोनपुर में गंगा में मिलती है।
  • नदी को नेपाल में कल्याणी के नाम से जाना जाता है ।

8. कोशी –

उत्पत्ति – यह नदी वरुण  सूर्य कोशी ,तमूर ( जो माउंट एवरेस्ट और कंचनजंगा से  यह गंगा  की एक बाई किनारे की सहायक नदी है नदी को बहाती है  हिमालय में कोसी नदी बनाने के लिए एकजुट होती है ।यह  एक प्राचीन नदी है । -कोसी नेपाल के तराई क्षेत्र से होकर बहती है । इस नदी को बिहार के मोरो की नदी के रूप जाता है ।

9. दामोदर –

उत्पत्ति – यह छोटानागपुर पठार में उत्पन्न होती है और झारखंड में पूर्वी दिशा में बहती है,यह फुल्टा के पास हुगली नदी के दाहिने किनारे से मिलती है, बराकर नदी दामोदर की एक महत्वपूर्ण महायक नदी है ।

10. महानंदा  –

  • -यह दार्जिलिंग पहाड़ियों से निकलती है । 
  • -यह भारत में गंगा नदी की अंतिम बाई तट की  सहायक नदी है ।